परेशानियों से हार न मानें वरन निरंतर आगे बढ़ें : शहडोली

ग्राम दिगारा में आयोजित एनएसएस शिविर का तीसरा दिन

0
74

झाँसी। ‘‘युवाओं को परिस्थितियों से हार न मानकर उनसे संघर्ष करना चाहिए। सत्य की राह में हमेशा परेशानियाँ आती हैं, किन्तु हमें उनसे हार न मानते हुए आगे बढ़ते रहना चाहिए। उक्त विचार बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, झाँसी की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वितीय, तृतीय एवं पंचम द्वारा पूर्व माध्यमिक विद्यालय, दिगारा में आयोजित विशेष शिविर के तीसरे दिन के बौद्धिक सत्र के मुख्य अतिथि प्रख्यात फिल्म एवं टीवी कलाकार आरिफ शहडोली ने व्यक्त किए।
उन्हाेंंने कहा कि इस प्रकार के शिविरों से हमें अपने साथी के व्यवहार एवं उसकी संस्कृति को जानने समझने का अवसर प्राप्त होता है। हमें दूसरों को जानने के लिए अच्छा नजरिया विकसित करना चाहिए। बडे लक्ष्य और व्यापक सोच के साथ समाज को बेहतर बनाने के लिए प्रयास करने चाहिए। अहम् और अहमियत के अन्तर को समझ कर दिलों को जोडने का काम करना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति में नैसर्गिक क्षमतायें होती हैं, हमें उन्हें पहचान कर उन्हें परिष्कृत करना चाहिए। वहीं सोसाइटी फॉर साइंस, नई दिल्ली के निदेशक सुरेश श्रीवास्तव ने शिविरार्थियों का आह्वान किया कि वे पूर्वाग्रहों से मुक्त होकर वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करें, जिससे एक चेतनायुक्त समाज का निर्माण हो सके। उन्होनें कहा कि अगर समाज पतन की ओर जायेगा, तो समाज की मूलभूत इकाई होने के नाते व्यक्ति भी पतन की ओर अवश्य अग्रसर होगा। एसडीएम ट्रस्ट की सचिव व उद्यमिता सलाहकार सौम्या चन्द्रा ने कहा कि बुन्देलखण्ड प्राकृतिक सम्पदा से भरपूर क्षेत्र हैं, किन्तु जागरुकता व शिक्षा के अभाव के चलते यहां के लोग आजीविका सम्बन्धी संकटों से जूझते हुए पलायन कर रहे हैं। इसको रोकने के लिए स्थानीय अवसरों को विकसित करने की आवश्यकता है। उन्होनें कहा कि विकास के लिए जरुरी है, प्राकृतिक संसाधनों का समावेशी विकास करें। उद्यमिता हेतु विभिन्न उपायों को बताते हुए सौम्या चन्द्रा ने डिजीप्लेक्स कार्यक्रम के बारे में शिविरार्थियों को अवगत कराते हुए उन्हें स्वरोजगार हेतु प्रेरित किया। इससे पूर्व शिविरार्थियों द्वारा ‘‘बेटी बचाओ-बेटी पढाओ’’ को केन्द्रित कर रैली का आयोजन किया गया, जिसे मुख्य अतिथि आरिफ शहडोली ने हरी झण्डी दिखाई। रैली ने पूरे गांव व मुख्य मार्ग पर भ्रमण कर व नारे लगाकर ग्रामवासियों को जागरुक किया। रैली के दौरान विश्व रंगमंच दिवस के उपलक्ष्य में इप्टा झांसी के रंगकर्मियों पुष्पेन्द्र कुमार, संग्राम सिंह, दीप्ति, सीमादेवी, मिथुन, अंशिका आदि द्वारा बालिका हिंसा व छेडछाड की समस्या को केन्द्रित कर नाटक ‘‘दस्तक’’ का मंचन किया। इस अवसर पर ग्राम प्रधान गोविन्द सिंह यादव भी उपस्थित थे। शिविर का संचालन कार्यक्रम अधिकारी डॉ. मुहम्मद नईम, स्वागत डॉ. श्वेता पाण्डेय व आभार डॉ. फुरकान मलिक ने व्यक्त किया।

LEAVE A REPLY