पर्यावरण को सही रखने के लिए करनी होगी सहभागिता

0
98

झांसी। बुन्‍देलखण्‍ड में पानी की कमी से कभी सोना उगलने वाली धरती बेकार होती जा रही है और लोगों को यहां से पलायन करना पड़़ रहा है। विगत कई दिनों से बादल आ रहे हैं और बिना बरसे लौट जा रहे हैं। मानसून आने के बाद भी अभी तक एक अच्‍छी बारिश झांसी शहर में नहीं हो सकी है। यहां का पर्यावरण संतुलन लगातार बिगड़़ रहा है। ऐसे में हमको अपनी जिम्‍मेदारी समझ कर सुधार के कार्यक्रम में हिस्‍सा बनना होगा और अपनी सहभागिता से इस समस्‍या को दूर करना होगा।
एक बड़ी समस्‍या है पाॅॅलिथीन, जिसको लेकर पर्यावरण का संतुलन बिगड़ता जा रहा है। आज मुम्‍बई, नागपुर जैसे शहर जिस समस्‍या से गुजर रहे है। उसका एक बड़़ा़ कारण पॉलिथीन भी है। पशु पॉलिथीन खाकर मर रहे हैं। नदियों में पॉलिथीन का कचरा बढ़ता जा रहा हैै। शहरों में नालियां चाेेक हो रही हैं। ऐसी तमाम समस्‍याएं इस पॉलिथीन से उपज रही हैं। इसका उपयोग हमको बंद करना होगा। इसके लिए 15 जुलाई से उत्‍तर प्रदेश में पॉलिथीन बंद हो जाएगी, जिसकी घोषणा मुख्‍यमंत्री स्‍वयं करेंगे। कुछ ऐसे ही मुद्दाेें को लेकर मण्‍डलायुक्‍त श्रीमती कुमुदलता श्रीवास्‍तव, जिलाधिकारी शिवसहाय अवस्‍थी ने एक पत्रकारवार्ता के दौरान बुन्‍देलखण्‍ड के सूखे पर चिंता जताते हुए पौधारोपण और झांसी को पॉलिथीन व प्‍लास्‍टिक मुक्‍त शहर बनाए जाने पर विशेष जोर दिया।
मण्‍लायुक्‍त ने कहा कि झांसी मंडल को हरा भरा बनाया जाने के लिए कुछ अलग हटकर प्रयास करने होंगे, जिससे मानसून अाए तो बिना बरसे न जाए। इन दिनों बादल घिर तो आते हैं, लेकिन बारिश छिटपुट ही हो रही है। इसके लिए एक महाअभियान चलाकर पौधारोपण किया जायेगा। इसमें मण्‍डल के सभी लोगों को अपनी जिम्‍मेदारी समझ कर सहभागिता करनी होगी। जिलाधिकारी श्री अवस्‍थी ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पॉलीथिन और प्लास्टिक मुक्‍त प्रदेश बनाने का निर्णय लिया है, जिसे सफल बनाने के लिए जनसहभगिता के साथ अभियान चलाकर रोक लगाई जाएगी। लोगों को जागरुक किया जायेगा। इसके तहत 15 जुलाई से पॉलिथीन पर रोक, 15 अगस्त से प्‍लास्‍टिक गिलास व थर्माकोल के सामान बंद कराए जाएंगे और 2 अक्टूबर से अधिकतर यूज एण्‍ड थ्रो वाले प्‍लास्‍टिक व थर्माकोल के अन्‍य सामानों पर भी रोक लगेगी। उन्‍होंने बताया कि महानगर को ग्रीन झांसी बनाने के लिए एक व्यक्ति-एक वृक्ष का नारा दिया जाएगा और पौधारोपण होगा, जिसके तहत सात लाख फलों और छायादार पौधे लगाए जाएंगे। इस मौके पर नगर आयुक्‍त प्रताप सिंह भदौरिया भी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY