पुस्तक मेले में रंगारंग प्रस्तुतियों की छटा बिखेरी

0
81

झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में आयोजित राष्ट्रीय पुस्तक मेले के सांस्कृतिक मंच पर आज देश के प्रख्यात कहानीकारों मनीषा कुलश्रेष्ठ, चरण सिंह पथिक और बालेंदु द्विवेदी ने अपनी कहानियों का पाठ पुस्तक प्रेमियों के समक्ष प्रस्तुत किया। इस मौके पर उन सभी रचनाकारों ने पुस्तक प्रेमियों के विभिन्न प्रश्नों का जवाब देकर उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। चौथे दिन विद्यार्थियों ने अपनी पसंदीदा पुस्तकों की खरीददारी का आनंद लिया।
पुस्तक मेले में सोमवार को लेखक से मिलिए कार्यक्रम में सबसे पहले मनीषा कुलश्रेष्ठ ने अपनी कहानी केयर आफ स्वा्त घाटी का पाठ किया। इसमें प्रज्ञा और गर्भाशय के बीच जूझती एक ऐसी स्त्री का वर्णन है जो समाज की विडंबनाओं से घिरी हुई है। वह स्त्री परिवार से विद्रोह का मानस बनाने के बाद पुनः उसी का आश्रय ग्रहण करती है। इसके बाद चरण सिंह पथिक ने अपनी कहानी ‘मुर्गा’ का पाठ किया। इसमें शि़क्षा क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार को रेखांकित किया गया है। इस कहानी के माध्यम से वह व्यवस्था पर करारा चोट करते हैं। बालेंदु ि़द्ववेदी ने अपनी कहानी ‘बरम भोज’ का पाठ किया। इसमें गरीबी और नशाखोरी से घिरे एक व्यक्ति की मनोदशाओं और पूर्वांचल की सामाजिक विद्रूपताओं का उल्लेख किया गया। बाद में संजय तिवारी ने अपनी कविता ‘मै यशोधरा बोल रही हूं’ का पाठ किया। प्रश्नोत्तर सत्र में उपस्थित श्रोताओं ने अपने प्रिय लेखकों से प्रश्न पूछा। हिंदी विभागाध्यक्ष डा. मुन्ना तिवारी, डा. पुनीत बिसारिया, डा. श्रीहरि ि़त्रपाठी और शोध छात्रा ममता शुक्ला समेत कई लोगां ने मनीषा कुलश्रेष्ठ और चरण सिंह पथिक से कई प्रश्न पूछे। कार्यक्रम का संचालन डा. विनम्रसेन सिंह ने किया।
इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेन्द्र दुबे के द्वारा आमंत्रित साहित्यकारों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में प्रो देवेश निगम, प्रो देवेंद्र, डा. अचला पाण्डेय, नवीन चंद्र पटेल, डा. गौरी त्रिपाठी, डा. अल्पना सिंह, डा. डीके भट्ट, डा. सौरभ श्रीवास्तव, डा. मुहम्मद नईम, ड़ा श्वेता पाण्डेय, डा. अजय कुमार गुप्ता, उमेश शुक्ल, जय सिंह, सतीश साहनी, व्यंग्यकार देवेंद्र भारद्वाज, जयराम कुठार, दिनेश प्रजापति समेत अनेक शिक्षक उपस्थित रहे।
देर शाम सांस्कृतिक संध्या में नीरज एंड कपंनी के सदस्यों और विद्यार्थियो ने अपनी विभिन्न रंगारंग प्रस्तुतियों से प्रतिभा का रंग बिखेरा। नीरज और उनके साथियों ने गीत और नृत्य की सुंदर प्रस्तुतियों से दर्शकों की वाहवाही बटोरी।

LEAVE A REPLY