वोटर लिस्ट ने हराया कई पार्षद प्रत्याशियों को

0 बीएलओ पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप 0 मोहल्ले के मोहल्ले गायब हुए वोटर लिस्ट से

0
83

झांसी। विगत माह हुए नगर निगम के चुनाव में अब हर जगह से एक ही आरोप सामने आ रहा है, जिसमें बीएलओ पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे हैं। इसमें पुरानी वोटर लिस्ट के आधार पर वोट डाल रहे अधिकतर वोटर्स के नाम ही नहीं पूरे के पूरे मोहल्लों के नाम बीएलओ की लापरवाही या भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए।
वार्ड संख्या पांच में बीएलओ पर आरोप है कि उसने भ्रष्टाचार के चलते लगभग पांच सौ के करीब ऐसे नाम लिस्ट में जोड़ दिए जो क्षेत्र के निवासी ही नहीं हैं। वहीं अधिकतर ऐसे लोगों के नाम गायब दिखे, जोकि सालों से वोट डाल रहे हैं। इस बार वोटिंग लिस्ट में उनके नाम ही नहीं आए। क्योंकि वह दल विशेष के वोटर या फिर सवर्ण जाति से थे। ऐसा ही वार्ड संख्या 26 में भी पाया गया, जहां अधिकतर सवर्ण वर्ग के वोटर्स के नाम उड़ा दिए गए। क्षेत्रीय लोगों ने इसको लेकर जिलाधिकारी से मांग की है कि वोटर लिस्ट की जांच कराई जाए और दोषियों को सजा दी जाए। ऐसा ही अधिकतर वार्डों में किया गया है, जोकि प्रशासन के लिए जांच का विषय है। कई वार्डों में से दलित मतदाताओं के नाम काटे गए है, तो कई जगह मुस्लिम मतदाताओं के पूरे के पूरे घर भर के नाम ही साफ कर दिए गए। खाती बाबा व्यापार मण्डल के सदस्य नरेन्द्र महेन्द्रा ने बताया कि वार्ड 26 की एक महिला बीएलओ खुद घर में रहीं और उनके पति व अन्य लोग वोटर लिस्ट को सही करने में लगे रहे। ऐसे में कई जगह गड़बड़ी की गई। इसकी जांच की जानी चाहिए कि आखिर इतने नाम किस प्रकार काट दिए गए। इस सम्बंध में जिला जनकल्याण महासमिति के अध्यक्ष जितेन्द्र तिवारी का कहना है कि हर बार जिला प्रशासन चुनाव के समय यह प्रक्रिया प्रारम्भ करता है और उसके बाद भी हर बार चुनाव के दिनों में काफी वोटर्स छूट जाते हैं। इसको लेकर उन दिनों में हो हल्ला मचता है और फिर सब भूल जाते हैं। जिला प्रशासन को इसको सतत प्रक्रिया के तहत लगातार चलाना चाहिए, जिससे लोग वोट से वंचित न रहें।

LEAVE A REPLY