जाने क्‍यों एक दूसरे के साथ अाईं भारत और रुस की सेनाएं

भारत-रूस के मध्‍य संयुक्त सैन्य अभ्‍यास इन्द्र-2018 शुरु

0
89

झाँसी। भारत और रूस के मध्‍य झाँसी के बबीना सैन्य स्टेशन में 18 से 28 नवंबर तक आयोजित 10 वें संयुक्त सैन्य अभ्‍यास इन्द्र-2018 का सोमवार को उद्घाटन किया गया। दोनों देशों के बीच चल रहे इस ग्यारह दिवसीय संयुक्त युद्धाभ्‍यास में रूस संघ की 5वीं सेना तथा भारतीय सेना की ओर से मेकेनाइज्ड इंफैण्‍ट्री बटालियन की कंपनी साइज की सैन्य टुकडिय़ां भाग ले रही है। इस सैन्य अभ्‍यास के उद्घाटन समारोह में दोनों देशों की सैन्य टुकडिय़ों ने भाग लिया।


इस दौरान आयोजित परेड की संयुक्त समीक्षा भारतीय सेना की ओर से व्हाईट टाइगर डिवीजन के जनरल ऑफीसर कमांडिंग मेजर जनरल पी एस मिन्हास और रूसी सेना की ओर से रूसी सेना के इस्टर्न मिलिट्री डिस्ट्रिक्स के कमांडर मेजर जनरल सेकोव अलेग मुसोविच ने की। इस अवसर पर दोनों सेनाओं के वरिष्ठ सैन्यधिकारी मौजूद थे। परेड के दौरान आर्मी एविएशन के एक हेलीकॉप्टर द्वारा दोनों देशों के राष्ट्रीय ध्वज फहराते हुए मार्च पास्ट किया गया। उद्घाटन समारोह के बाद दोनों देशों के सैन्यधिकारियों एक दूसरे के साथ रूबरू हुए और सैन्यभ्‍यास से जुड़ी गतिविधियों को समझा। इस सैन्य अभ्‍यास के आयोजन का उद्देश्य दोनों देशों की सैन्य टुकडिय़ों द्वारा संयुक्त राष्ट्र के नियमानुसार संयुक्त योजनाबद्ध तरीके से प्रशिक्षण प्राप्त करना तथा दोनों देशों की सैन्य युद्धक रणनीतियों व सैन्य हथियारों को समझना है। इस सैन्य अभ्‍यास के माध्यम से दोनों देशों की सेनाओं द्वारा टीम एकजुटता के साथ ऑपरेशन के दौरान विशेष सामरिक स्तर को बढ़ाना है।

LEAVE A REPLY