भेजी जा रही थी नक्सलियों को विस्फोटक सामग्री, चैकिंग में पकड़ी

चेकिंग के दौरान हाइवे पर गई पकड़ी गाड़ी, आरोपी फरार काफी मात्रा में जिलेटिन, डेटोनेटर हाईपावर व अमोनिया नाइट्रेट बरामद

0
220

झाँसी। मोंठ पुलिस की सक्रियता के चलते विस्फोटक सामग्री नक्सलियों के हवाले करने के पहली पकड़ी गई है। यह सामग्री झाँसी-कानपुर हाइवे पर स्थित मोंठ के पास चेकिंग के दौरान बरामद की गई। इसमें जिलेटिन रॉड, डेटोनेटर हाईपावर, अमोनिया नाइट्रेट शामिल है। हालांकि आरोपी विस्फोटक सामग्री से भरी गाड़ी को छोड़कर रफूचक्कर हो गए हैं। पुलिस ने गाड़ी नंबर के आधार पर आरोपियों की तलाश शुरु कर दी है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ ओ पी सिंह, पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राहुल मिठास के निर्देश पर मोंठ प्रभारी निरीक्षक आशीष मिश्रा मय स्टॉफ के साथ मोंठ बाईपास पर वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। चेंकिंग के दौरान कानपुर से झाँसी की ओर बुलेरो पिकअप दिखाई दी। संदिग्ध होने पर गाड़ी क्रमांक (यूपी95टी-2841) को रोक लिया। इसके पहले चालक व अन्य लोग गाड़ी को छोड़कर मौके से भाग गए। पकड़ी गई गाड़ी को खोलकर देखा गया तो उसके अंदर विस्फोटक सामग्री भरी हुई थी। इससे वहां हड़कंप मच गया। इसकी जानकारी पुलिस के आला अफसरों को दी गई। साथ ही खुफिया एजेंसी भी सक्रिय हो गई। बाद में गाड़ी में लदी विस्फोटक सामग्री की जांच की गई। जांच के दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री पायी गई। पुलिस के मुताबिक इसमें 800 जिलेटिन रॉड, चार सौ डेटोनेटिर हाई पॉवर, दो बोरा अमोनिया नाइट्रेट लदा हुआ था। गाड़ी पर जो नंबर अंकित है वह नंबर महोबा जिले का है। इस आधार पर पुलिस ने गाड़ी के मालिक की तलाश शुरु कर दी। एक टीम ने महोबा में भी छापा मारा मगर गाड़ी मालिक वहां से भी फरार है। सूत्रों का कहना है कि तीन साल पहले भी इसी तरह की विस्फोटक सामग्री बरामद हुई थी। उक्त सामग्री नक्सलियों के हवाले की जाती थी। इसी गिरोह के तार भी झाँसी और महोबा से जुड़े हुए हैं। इसकी पुलिस ने गोपनीय तरीके से जांच शुरु कर दी है।

ऐसे पकड़ी गई थी पिछली विस्फोटक सामग्री

26 अगस्त 2016 को यूपी एटीएस और अपराध शाखा ने बिहार में नक्सलियों को ट्रक से भेजी जा रही विस्फोटक सामग्री बरामद की गई थी। इसमें 30 हजार डेटोनेटर, 20 हजार जिलेटिन छड़ें, छह क्विंटल अमोनियम नाइटे्रट, ट्रक और एक स्कार्पियों बरामद की थी। ट्रक व स्कार्पियों बिहार की थी। इसमें स्कार्पियों सवार पंकज सिंह, विक्रांत सिंह और सोमनारायण को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार लोगों की निशानदेही पर एटीएस ने मोंठ थाना क्षेत्र में छापा मारकर मोंठ के ग्राम टोड़ी मडैया निवासी चरन सिंह को गिरफ्तार किया था। इसके पास से 92 बोरी अमोनियम नाइट्रेट, 800 प्लेन डेटोनेटर, तीन हजार इलेक्ट्रोनिक प्लेन डेटोनेटर, दो हजार डीटीएच व चार हजार जिलेटिन बरामद की गई थी। इस मामले में कोतवाली थाना क्षेत्र के छनियापुरा निवासी राजीव राय, बड़ागांव गेट बाहर गेंड़ा कालोनी निवासी गौरव अग्रवाल व ओरछा थाना क्षेत्र के ग्राम मड़ोर निवासी राजेन्द्र यादव आरोपी बनाए गए थे। यह लोग विस्फोटक की सप्लाई करने वाले बिहार के नक्सलियों तक करते थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक उक्त विस्फोटक ओम प्रकाश चौधरी निवासी सासाराम जिला रोहतास, अक्षयवर महतो निवासी सासाराम के पास ले जाया जा रहा था। ओमप्रकाश चौधरी कुख्‍यात नक्सली था। जानकारी मिली थी कि नक्सलियों ने सुरक्षा एजेंसियों को निशाना बनाने के लिए ये विस्फोटक मंगाया था। बाद में राजीव राय, गौरव अग्रवाल और राजेन्द्र यादव ने अलग-अलग तिथियों में अदालत में आत्मसमर्पण कर लिया था।

LEAVE A REPLY