अवैध खनन पर सीबीआई ने कसा शिकंजा, प्रदेश भर में हुई कार्रवाई

0 कभी भी झांसी आ सकती है सीबीआई 0 अधिकारियों पर भी हुई कार्यवाही

0
41

झांसी/हमीरपुर। कहते हैं कागज कभी नहीं मरता, आज नहीं तो कल अपराधी पर कार्रवाई होकर ही रहती है। ऐसे ही अवैध खनन में पूरे प्रदेश में सपा सरकार के दौरान जिस प्रकार पट्टे हुए और सत्‍ताधारी दल के लोगों ने जिस प्रकार अपने रसूख का फायदा उठाया। उनके साथ शामिल अधिकारियों तक किसी को अब बख्‍शा नहीं जा रहा है। कोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने डेढ़ वर्ष में अपनी जांच पूरी करते हुए अब कार्रवाई प्रारम्‍भ कर दी है। इस क्रम में दिल्‍ली, लखनऊ समेत पूरे उत्‍तर प्रदेश के कई शहरों में छापेमारी की कार्रवाई की गई। उम्‍मीद की जा रही है कि झांसी में भी सीबीआई की टीम जल्‍दी ही कार्रवाई करने को पहुंचेगी।
उल्‍लेखनीय है कि वर्ष 2015 में सपा सरकार के दौरान खनन के पट्टों को लेकर काफी गड़बड़ियां सामने आई थीं। इसी दौरान अवैध रूप से जारी मोरंग खनन को लेकर हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी। मोरंग खदानों पर पूरी तरह से रोक लगाने के बाद भी अवैध खनन खुलेआम किया जाता रहा। 28 जुलाई 2016 को तमाम शिकायतों व याचिका पर सुनवाई करते हुये हाईकोर्ट ने अवैध खनन की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।
उससे पूर्व हाईकोर्ट ने 16 अक्टूबर 2015 को हमीरपुर में जारी किए गए सभी 60 मोरंग खनन के पट्टे अवैध घोषित करते हुए रद्द कर दिए थे। अखिलेश यादव की सरकार में आईएएस बी.चन्द्रकला की पोस्टिंग पहली बार हमीरपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर की गई थी। आरोप है कि इस आईएएस ने जुलाई 2012 के बाद हमीरपुर जिले में 50 मोरंग के खनन के पट्टे किए थे। ई-टेंडर के जरिए मोरंग के पट्टों पर स्वीकृति देने का प्रावधान था, लेकिन बी.चन्द्रकला ने सारे प्रावधानों की अनदेखी की थी। मामले को लेकर सीबीआई ने शुक्रवार रात से रमेश मिश्रा जो वर्तमान में समाजवादी पार्टी से एमएलसी है , के घर मे छापेमारी की। साथ ही पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि के घर भी जांच जारी है। पूरे मामले में कुछ अहम दस्तावेज भी सीबीआई के हाथ लगे है । अवैध खनन मामले पर हमीरपुर ज़िला हमेशा से सुर्खियों में रहा है। जिसके बाद से हमीरपुर मुख्यालय में वर्तमान एमएलसी रमेश मिश्रा और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि संजय दीक्षित के घर मे छापेमारी की। मामले में 11 लोगो पर एफआईआर भी दर्ज करवाई गई है। सीबीआई ने आईएएस बी चंद्रकला के लखनऊ स्‍थित आवास पर भी छापेमारी की है और मामला दर्ज किया है। बी चंद्रकला और एक दर्जन अन्य लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज हुआ है। फिलहाल बी चंद्रकला की तत्काल गिरफ्तारी नहीं हुई है।
विभिन्न स्थानों पर अभी भी छापे जारी हैं। वहीं सीबीआई ने क्लर्क राम अवतार सिंह से 2 किलोग्राम सोना और 2 करोड़ रुपये नकद बरामद किए हैं, तो मोइनुद्दीन (पूर्व खनन अधिकारी, हमीरपुर) से 1.8 किलोग्राम सोना, 12.5 लाख नकद बरामद किया है।
इधर, जालौन में भी सीबीआई की दो टीमें सुबह तकरीबन 8 बजे पहुंची और उरई के बैंक कालौनी स्थित मोरंग ठेकेदार बसपा नेता राम अवतार राजपूत और कोतवाली में सामने स्थित मोरंग ठेकेदार करन सिंह राजपूत के आवास पर अचानक छापेमारी की। छापेमारी के दौरान पुलिस ने पूरे घर को चारों तरफ से घेर लिया था। सीबीआई ने दोनों ठेकेदारों के घर के अंदर तलाशी ली। फिलहाल अभी किसी तरह की कार्यवाही की बात को उजागर नहीं किया गया है। वहीं सीबीआई के झांसी आने की भी सम्‍भावना जताई जा रही है।

राठ से संवाददाता मोहम्मद मुख्तार

LEAVE A REPLY