छात्र-छात्राओं के लिए एन.सी.सी. प्रशिक्षण आवश्यक: प्रो. सहगल

0
171

झांसी। राष्ट्रीय कैडेट कोर में प्रशिक्षण के दौरान कैडैट्स को दिया जाने वाला उच्च स्तरीय सैन्य प्रशिक्षण उनके अन्दर अनुशासन तथा चारित्रिक विकास में सहायक होता है। इस कारण हर छात्र-छात्रा के लिए एन.सी.सी. का प्रशिक्षण अनिवार्य किया जाना चाहिए। यह विचार बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के वरिष्ठ आचार्य प्रो.वी.के.सहगल ने एन.सी.सी. के 15 वर्ष पूर्ण होने पर बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर में संचालित शिक्षा संस्थान के सभागार में आयोजित गेट टूगेदर कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में व्‍यक्‍त किए। प्रो. सहगल ने उपस्थित कैडैट्स को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि एन.सी.सी प्रशिक्षण से छात्रों में एकता का समावेश होता है तथा छात्र-छात्राओं में उच्च स्तरीय नेतृत्व क्षमता का विकास होता है।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में विश्वविद्यालय के एनसीसी अधिकारी प्रो.सुनील काबिया ने आमंत्रित अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि 15 वर्ष विश्वविद्यालय में एनसीसी की का शुभारम्भ हुआ था, तब से आज तक एनसीसी के कैडेट्स विश्वविद्यालय की शान के रूप में रहे हैं। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के एनसीसी के 8 कैडेट को आर्मी अथवा वायु सेना की विंग में कमीशन प्राप्त हो चुका है तथा विश्वविद्यालय के कैडेट्स द्वारा निरंतर 26 जनवरी को राजपथ पर भारत के राष्ट्रपति के समक्ष होने वाली होने वाली गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेते हैं। यह सब छात्रों के तथा उनके एनसीसी प्रशिक्षकों के कठोर परिश्रम का फल है। डा.काबिया ने कैडैटस का आव्हान किया कि वह पूरे मन से एनसीसी में कार्य कर देश सेवा में अपना योगदान दें। विश्वविद्यालय में एन.सी.सी.प्रशिक्षक के रूप में कार्यरत सूबेदार मेजर जे.पी. शर्मा ने विश्वविद्यालय में एन.सी.सी. के 15 वर्ष पूर्ण होने पर बधाई दी तथा कैडेट्स की उपलब्धियेां की सराहना की। उन्होंने कहा कि एनसीसी कैडेट्स देश की दूसरी पंक्ति का रक्षा पंक्ति का सैनिक होता है। शिक्षा संस्थान के डा. सुनील त्रिवेदी ने अपने विस्तृत वक्तव्य में एन.सी.सी. के इतिहास तथा उसके महत्व पर प्रकाश डाला। इससे पूर्व कार्यक्रम के प्रारम्भ में मंचासीन अतिथियेां द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण, पुष्पार्चन, दीप प्रज्जवलन तथा सरस्वती वन्दना से प्रारम्भ हुआ। आमंत्रित अतिथियों को पुष्प कलिका देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में एन.सी.सी कैडैट्स ने एकल गायन, एकल नृत्य, समेह नृत्य, मिमिक्रीकामेडी शो, रैप तथा भारतीय पारम्परिक नृत्य के विभिन्न कार्यक्रम प्रस्तुत किये। इस दौरान कैडैट् शारिक बख्‍श को मिस्टर फ्रेशर तथा ऊर्जा श्वीता को मिस फ्रेशर के खिताब से नवाजा गया। इसके अतिरिक्त सीनियर अण्डर ऑफिसर राहुल कुशवाहा, सीनियर अण्डर ऑफिसर अवनीश कुमार, सीनियर अण्डर ऑफिसर हितिका यादव, अण्डर ऑफिसर जितेन्द्र पाल, कैडैट कंचन, कैडैट संजय कैडेट धीरेन्द्र मिश्रा को विभिन्न उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम के अन्त में आमंत्रित अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन सीनियर अण्डर ऑफिसर हितिका यादव तथा सीनियर अण्डर ऑफिसर सुखदा नागपाल ने किया। इस अवसर पर डा.काव्या दुबे, डा.जितेंद्र प्रताप सिंह, डा.धीरेंद्र यादव, डा.रश्मि सिंह, डा.सुनील त्रिवेदी, डा.विजय यादव, डा.महेंद्र कुमार, डा.हेमंत चन्द्रा, डा. भुवनेश सिंह, डा.सुषमा अग्रवाल, डा.शैलेंद्र तिवारी, डा.रमेश कुमार, सूबेदार प्यारेलाल आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY