विश्‍वविद्यालय बन सकता है कौशल विकास का हब

0
82

झांसी। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, भारत सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमन्त्री कौशल विकास योजना के अन्तर्गत इस क्षेत्र के निवासियों की स्थिति में सुधार ला सकता है। इस सम्बन्ध में भारत सरकार के कौशल विकास मन्त्रालय की अपर सचिव, सुश्री ज्योतिका पाटकर तथा बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.जे.वी.वैशम्पायन के मध्य विस्तारपूर्वक चर्चा हुई। अपर सचिव के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमण्डल ने विश्वविद्यालय के कुलपति से भेंटकर इस सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा की।
इसके पश्चात बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर के आर्किटेक्चर संस्थान के सभागार में प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने बी.टेक. के छात्रों के साथ विचार विमर्श कर कौशल विकास की योजनाओं पर उनके विचार जाने। अपराहन तीन बजे से कुलपति कमेटी कक्ष में कुलपति की अध्यक्षता में बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर में संचालित विभिन्न संस्थानों के विभागाध्यक्षों तथा समन्वयकों की एक बैठक हुई। बैठक में अपर सचिव सुश्री ज्येातिका पाटकर द्वारा भारत सरकार की कौशल विकास से सम्बन्धित योजनाओं तथा उनके उद्देश्यों पर प्रकाश डाला तथा यह जानने का प्रयास किया कि विश्वविद्यालय के विभिन्न संस्थान इस योजना में किस प्रकार सहयोगी बन सकते हैं। विश्वविद्यालय की ओर से प्रो.सुनील काबिया, प्रो.बी.गंगवार, डा.रामबीर सिंह, डा.डी.के.भट्ट, डा.रमेश कुमार ने अपने विचार व्यक्त किये तथा कौशल विकास के विभिन्न प्रस्ताव प्रस्तुत किये। प्रतिनिधमण्डल में सम्मिलित झांसी के मुख्य विकास अधिकारी, प्रतिनिधिमण्डल के सदस्य मनीश कुमार ने भी अपने विचार व्यक्त किये। अन्त में कुलपति प्रो.वैशम्पायन ने यह विश्वास दिलाया कि क्षेत्र के विकास के लिए विश्वविद्यालय के सभी विभाग अपना हर सम्भव प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY