आधुनिक व्यस्त जीवनशैली ही बीमारियों की जिम्मेदार : प्रो. अलका शर्मा

न्यूट्रास्यूटिकल फूड्स तथा फ़ूड इंजीनियरिंग प्रिंसिपल्स पर दो दिवसीय प्रशिक्षण हुआ गुरु जम्बेश्वर विश्वविद्यालय, हिसार के साथ टेक्विप-३ ट्विनिंग प्रोग्राम के अंतर्गत आयोजन

0
216

झांसी। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय में टेक्विप-३ ट्विनिंग प्रोग्राम के अंतर्गत फ़ूड टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग विभाग, अभियांत्रिकी तथा प्रौद्योगिकी संस्थान, बुन्देलखण्ड विष्वविद्यालय तथा फ़ूड टेक्नोलॉजी विभाग, गुरु जम्बेश्वर विश्वविद्यालय हिसार के संयुक्त तत्वावधान में न्यूट्रास्यूटिकल तथा फंक्शनल फूड्स तथा फ़ूड इंजीनियरिंग प्रिंसिपल्स पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

गुरु जम्बेश्वर विश्वविद्यालय हिसार से आयी प्रो० अलका शर्मा द्वारा न्यूट्रास्यूटिकल और फंक्शनल फ़ूड के उपयोग से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले औषधीय प्रभावों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। उन्होंने बताया कि आधुनिक व्यस्त जीवन शैली के कारण लोग अनेक बीमारियों के शिकार हो जाते हैं, ऐसे में लोगों में अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ने के साथ ही न्यूट्रास्यूटिकल तथा फंक्शनल फूड्स लोकप्रिय होते जा रहे हैं । इंजी० सुनील तथा इंजी० आस्था ने फ़ूड इंजीनियरिंग से सम्बंधित साइकोमेट्री तथा साइज़ रिडक्शन के सिद्धांतो की जानकारी दी। फ़ूड टेक्नोलॉजी के छात्रों के लिए एक टेक्निकल क्विज कम्पटीशन का भी आयोजन किया गया, जिसमें छात्र आकाश और अखिलेश की टीम को प्रथम पुरस्कार मिला। डीन इंजीनियरिंग प्रो० एसके कटियार द्वारा पुरस्कृत छात्रों को बधाई दी गयी। कार्यक्रम के दौरान विभाग समन्वयक डॉ० शुभांगी निगम, इंजी० रवि कुमार, शैक्षणिक समन्वयक इंजी० ब्रजेन्द्र शुक्ल, डॉ० नूपुर गौतम, डॉ. मनोज कुमार, इंजी० राहुल शुक्ला, इंजी० सदफ, इंजी० सिंधु, इंजी० अंजली श्रीवास्तव तथा इंजी० जुनैद आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY