पुलिस लाइन में हुई महिला सिपाहियों की पासिंग आउट परेड

0
71

झाँसी। पुलिस विभाग को 219 महिला सिपाही और मिल गई हैं। गुरुवार की सुबह पुलिस लाइन मैदान में प्रशिक्षु महिला सिपाहियों ने कदम से कदम मिलाते हुए शानदार पासिंग आउट परेड के जरिए अपना दमखम दिखाया। पुलिस उपमहानिरीक्षक सुभाष चंद्र बघेल ने परेड की सलामी ली। इसके बाद सभी प्रशिक्षु महिला सिपाहियों को पद और कर्तव्य की शपथ दिलाई गई। उन्होंने पुलिस की नौकरी, पारिवारिक जीवन, सामाजिक जीवन में भी अच्छा व्यवहार रखने का संदेश दिया। पासिंग आउट परेड के बाद सभी के चेहरे खिले हुए थे।
प्रयागराज, कन्नौज, कानपुर देहात, औरैया, ललितपुर जिलों की इन महिला सिपाहियों को छह माह तक आउटडोर और इंडोर की ट्रेनिंग दी गई। इसके बाद शारीरिक दक्षता और लिखित परीक्षा ली गई। इसमें उत्तीर्ण सभी महिला आरक्षियों का दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया। बताया गया कि 2015 की भर्ती के दूसरे बैच की पासिंग आउट परेड के लिए कुल 230 प्रशिक्षु महिला आरक्षियों को बुलाया गया था। इसमें एक ने पहले ही त्याग पत्र दे दिया था। उन्हें दूसरे विभाग में नौकरी मिल गई थी। साथ ही एक गैर हाजिर हो गई थी। अब 219 सिपाहियों को जनपदों में भेजा गया है। सभी को अभी छह माह की और ट्रेनिंग दी जाएगी। पुलिस के अलग-अलग विभाग और कंप्यूटर समेत व्यावहारिक कार्यों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। यह जिन जिलों में रहेंगी बाद में वहीं पर तैनाती कर दी जाएगी।

कोई एमएससी तो कोई बीकॉम पास

प्रशिक्षु महिला सिपाहियों में शायद ही कोई ऐसी हो जो इंटर या हाईस्कूल उत्तीर्ण हो। पुलिस रिकार्ड में सिपाही की नौकरी पाने वाली 229 सिपाहियों में 12 ने एमएससी, 15 बीएड/बीटीसी और एक ने एमकॉम की डिग्री प्राप्त कर रखी है। वहीं 80 ने बीएसएसी, 109 ने बीए और पांच ने बीकॉम किया है। पुलिस अधिकारी मानते हैं महिला सिपाहियों की अच्छी शिक्षा से विभाग के कार्यों को बेहतर ढंग से करने में मदद मिलेगी। बताते हैं कि प्रयागराज से 20, ललितपुर से 30, कन्नौज से 68, औरैया से 61, कानपुर देहात से 51 महिला रिक्रूट ट्रेनिंग के लिए आई थी। पुलिस उपमहानिरीक्षक सुभाष चंद्र बघेल ने पास आउट सभी महिला आरक्षियों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। डीआईजी ने कहा कि इन ट्रेंड महिला आरक्षियों के शामिल होने से उत्तर प्रदेश पुलिस को बल मिलेगा। साथ ही एंटी रोमियो स्क्वॉयड बनाने में भी मदद मिलेगी। जल्द ही इन महिला आरक्षियों को जनता की सेवा के लिए विभिन्न थानों में तैनाती मिलेगी।

परिजनों ने बेटियों का बढ़ाया हौसला


पासिंग आउट परेड के दौरान सभी 219 महिला रिक्रूट के परिजन झाँसी पुलिस लाइन में मौजूद थे। वो अपनी बेटियों का हौसला अफजाई कर रहे थे। खास बात ये भी है कि इन महिला रिक्रूट में कई महिला सिपाही सिविल सर्विसेज की तैयारी में भी जुटी हैं।
एसएसपी डॉ ओ पी सिंह के निर्देशन में परेड की प्रथम कमांडर रिक्रूट महिला आरक्षी उर्मिला, परेड की द्वितीय कमांडर रिक्रूट महिला आरक्षी ज्योति परेड की तृतीय कमांडर रिक्रूट महिला आरक्षी रमा, समस्त आठों टोलियों के कमांडरों सहित समस्त 219 रिक्रूट महिला आरक्षियों ने मंच से बारी बारी गुजरते हुए परेड का भव्य प्रर्दशन किया। इसके बाद डीआईजी और एसएसपी ने अन्तरू एवं बाह्य विषयों में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली रिक्रूट महिला आरक्षियों को पुरुस्कृत किया गया। इसमें अन्तरू एवं बाह्य विषयों में सर्वोत्तम, सर्वांग सर्वोत्तम एवं सात अन्तरू एवं बाह्य विषयों में प्रथम स्थान प्राप्त कर रिक्रूट महिला आरक्षी नीतू कुमारी द्वारा सबसे अधिक कुल दस पुरस्कार प्राप्त किए। अन्तरू विषयों के प्रथम विषय में रिक्रूट महिला आरक्षी प्रियंका देवी, चतुर्थ विषय में महिला आरक्षी रिक्रूट सीता देवी, पंचम विषय में आरक्षी नीरज, षष्टम विषय में आरक्षी सीमा देवी, सप्तम विषय में काजल सिंह द्वारा सर्वोत्तम अंक पाने पर प्रथम स्थान प्राप्त किया गया। बाह्य विषयों के शारीरिक प्रशिक्षण में महिला रिक्रूट आरक्षी काजल सिंह व अनआ र्ड कॉ ैबट तथा योगासन में महिला आरक्षी महिमा सिंह ने प्रथम स्थान प्राप्त किया गया।

229 महिला रिक्रूटों ने शुरू की थी ट्रेनिंग

एसएसपी डॉ ओ पी सिंह ने बताया कि बताते हैं कि प्रयागराज से 20, ललितपुर से 30, कन्नौज से 68, औरैया से 61, कानपुर देहात से 51 महिला रिक्रूट ट्रेनिंग के लिए आई थी। इसकी संख्या 231 थी। पुलिस लाइन में ट्रेनिंग शुरू हुई तो एक महिला रिक्रूट ने इस्तीफा दे दिया। यह महिला रिक्रूट कन्नौज की थी। इस प्रकार अब 230 महिला रिक्रूट ही बची थी। इसी बीच कानपुर देहात की महिला रिक्रूट गैर हाजिर हो गई तो उसे भी बाहर कर दिया गया। इस प्रकार 229 महिला रिक्रूटों की ट्रेनिंग शुरू की गई थी जिसमें विभिन्न परीक्षाओं के बाद साथ महिला रिक्रूट फेल हो गई। बची 219 महिला रिक्रूटों की ट्रेनिंग पूरी हुई, जिन्हें आज पासिंग आउट परेड में शामिल कर पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। फेल हुई दस महिला रिक्रूट की ट्रेनिंग अब 3 महीने और बढ़ गई है, जिन्हें बाद में पासिंग आउट परेड में शामिल कराया जाएगा। इस मौके पर सहायक पुलिस अधीक्षक मोह मद मुस्ताक , प्रतिसार निरीक्षक विपिन कुमार, आरटीसी प्रभारी श्रीमती पूनम शर्मा, चीफ वार्डन पूनम वर्मा, पीटीआई किरन पाल, शिखा सिंह, पूजा चैधरी, आईटीआई निर्भय सिंह, आरटीसी कार्यालय कांस्टेबल जितेन्द्र सिंह, कांस्टेबल दीपक मिश्रा आदि लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY