चुनाव आयोग की मंशा है कोई भी मताधिकार से ना रहे वंचित – सीडीओ

ईटीपीबीएस के माध्‍यम से सेवा मतदाताओं को देने होंगे वोट

0
51

झांसी। लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 ईटीपीबीएस के माध्यम से सेवा मतदाताओं को मतपत्र जारी होंगे। सेना कर्मी सहित अन्य सेवा मतदाता भी अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। भारत निर्वाचन आयोग की मंशा कोई भी अपने मताधिकार से वंचित न रहे। विभागाध्यक्ष विभागवार डाकमत पत्रों के लिए नोडल अधिकारी नामित करें, ताकि सभी कार्मिक अपने मताधिकार का प्रयोग कर सके। मतदान दिवस पर त्यौहार-सा माहौल हो, मतदेय स्थल के आस-पास। जनपद के समस्त 1964 मतदेय स्थलों पर न्यूनतम सुविधाएं सुनिश्चित की जाए। डीपीआरओ झांसी को बनाया गया वेलफेयर आफिसर, प्रतिदिन रिपोर्ट देनी होगी।
यह निर्देश प्रभारी अधिकारी (कार्मिक)/मुख्य विकास अधिकारी निखिल टीकाराम फुंडे ने विकास भवन सभागार में आयोजित ईटीपीबीएस की कार्यशाला एवं एएमएफ की बैठक मे अध्यक्षता करते हुए दिए। उन्होंने कहा कि सभी मतदेय स्थलों पर शत-प्रतिशत न्यूनतम सुविधाएं सुनिश्चित की जानी है, इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। निखिल टीकाराम फुंडे, प्रभारी अधिकारी (कार्मिक)/मुख्य विकास अधिकारी ने इलैक्ट्रानिकली ट्रांसमीटिड पोस्टल वैलेड सिस्टम (ईटीपीबीएस) की जानकारी देते हुए बताया कि भारत निर्वाचन आयोग की मंशा है कि कोई भी वोटर अपने मताधिकार से वंचित न रहे। इसलिए अबकि बार ईटीपीबीएस के माध्यम से ई-मेल द्वारा पंजीकरण होगा और ऑनलाइन ही वोटिंग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्मिक जो अन्य लोकसभा क्षेत्र में मतदाता है। वह पोस्टल वैलेट के माध्यम से वोट कर सकेंगे। उसके लिए उन्हें फार्म 12 भरना होगा। ईटीपीबीएस का प्रशिक्षण देते हुए डीआईओ आसिफ खान ने स्टेप-वाई-स्टेप कार्यवाही की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सेवा मतदाताओं की जानकारी को एकत्र करके उसे चुनाव आयोग की वेबसाइड पर लॉगिन आईडी और पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर प्राप्त ओटीपी पिन की सहायता से सर्विस वोटर पोर्टल पर अपलोड करना है। उन्होंने कहा कि रिकार्ड आफिसर द्वारा सेवा मतदाताओं का डाउनलोड करके सुरक्षित किया गया। प्रत्येक व्यक्ति का ईटीपीबीएस का पिन प्रेषित करना, जिससे ईटीपीबीएस खोला जाएगा। इस मौके पर ईटीपीबीएस की जानकारी एक लघु फिल्म के माध्यम से भी दी गयी। निखिल टीकाराम फुंडे, प्रभारी अधिकारी (कार्मिक)/मुख्य विकास अधिकारी ने मतदेय स्थलो पर सुनिश्चित न्यूनतम सुविधाओं (एएमएफ) की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए है कि सेक्टर अधिकारियों द्वारा मतदेय स्थलों का पुनः भ्रमण किया जाना है। अतः रैम्प, विद्युत आपूर्ति, पेयजल, छांव आदि की जो कमियां थी। उन्हें अतिशीध्र ठीक कराया जाए, ताकि भ्रमण पर उन्हें कमियां न मिले। मतदेय स्थलों पर पेयजल की व्यवस्था के निर्देश देते हुए कहा कि यदि पेयजल उपलब्ध नहीं है तो वहां टैंकर के माध्यम से उपलब्ध कराया जाए। ऐसे बूथों पर अभी से टैंकर आपूर्ति का रोडमैप तैयार करा लें। उन्होंने कहा कि जो भी अस्थायी व्यवस्था की जा सकती है वह की जाए। ऐसे मतदेय स्थल जहां शौचालय क्षतिग्रस्त है या शीट टूटी है अथवा पाइप चौक है तो उसे तत्काल दुरुस्त कराते हुए क्रियाशील किया जाए। बूथ तक सम्पर्क मार्ग भी दुरुस्त करा लिये जाएं, जो कमियां है उन्हें बीडीओ/डीसीआरओ ठीक करा लें। प्रभारी अधिकारी (कार्मिक)/मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि विद्युत आपूर्ति लगभग सभी मतदेय स्थलों में सुनिश्चित हो गयी है, परन्तु अभी भी चौदह बिन्दु ऐसे है जहां डीपी या ट्रान्सफार्मर बदला जाना है उन्हें बदल दिया जाए, ताकि बूथ पर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो सके। मतदेय स्थल पर छांव की भी व्यवस्था की जानी है, अतः अभी से टैन्ट वालो से सम्पर्क कर लें, ताकि बूथ पर तिरपाल लगाकर छांव की जा सके। उन्होंने कहा कि पोलिंग पार्टियों को बूथ पर कोई समस्या न हो, उन्हें सभी सुविधायें प्राप्त हो। जिसके लिए डीपीआरओ को वेलफेयर आफिसर नामित किया गया जिन्हें सारी व्यवस्थायें बूथ पर की जानी है। उन्होने निर्देश दिए कि समय से सारी व्यवस्थायें पूर्ण कर ले। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी/डिप्टी डीओ बी. प्रसाद, प्रभारी डाकमत पत्र शादाब खान अपर नगर आयुक्त, अपर नगर आयुक्त रोहन सिंह, डीआईओएस डॉ. एन.के. पाण्डेय, डीडीओ उग्रसेन सिंह यादव, पीडी डॉ. आर.के.गौतम, एडीआईओ शक्ति अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY