बुन्‍देली रसोई – बुन्‍देली शाही महेरी कैसे पकाएं

0
121

झांसी। आज से हम यह नई सीरिज प्रारम्‍भ कर रहे हैं, जिसके तहत आप बुन्‍देलखण्‍ड के प्रसिद्ध व्‍यंजन और भोजन को बनाना सीख सकते हैं और बनाकर खाने के साथ उसका आनन्‍द उठा सकते हैं। इसमें अगर आपके पास है कोई बुन्‍देली रेसिपी और आप उसे दूसरों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप हमसे सम्‍पर्क कर सकते हैं।

शाही महेरी

यह एक साधारण सा बुन्‍देली भोजन है जो आप खाना शुरु करेंगे, तो हर कौर में एक नया स्‍वाद महसूस होगा।

यह लेना होगा सामान –

एक कटोरी दही, 250 ग्राम चावल, थोड़ी सी राई, दो तीन कटी हुई हरी मिर्च, कड़ी पत्‍ता और तीन चार साबुत लाल मिर्च, एक चम्‍मच तेल, एक कच्‍चा आम कद्दूकस किया हुआ, भीगे हुए बादाम, पोदीना।

बनाने की विधि

इसको बनाने की विधि हम

समाजसेवी मुकुन्‍द मेहरोत्रा जी से जानेंगे। आमतौर पर इस भोज्‍य पदार्थ में घर में बचे हुए पके ठण्‍डे और रखे हुए चावलों का उपयोग किया जाता है। शाही महेरी बनाने के लिए चावलों को पकाकर ठण्‍डा कर लिजिए और एक से दो घण्‍टे रखे रहने दिजिए। उसके बाद एक कटोरी दही लेकर चावलों में मिला लिजिए। उसको आपस में मिला लिजिए।

मुकुुुुन्‍द जी बताते हैं कि उसके बाद दही मिले चावलों में तेल में फ्राई किए हुए राई, कड़ी पत्‍ता, कटी हरी मिर्च और साबुत लाल मिर्च का तड़का लगा लिजिए। तड़का लगानेे के बाद एक कच्‍चा आम कद्दूकस किया हुआ उसमें मिला दिजिए। यह करने के बाद महेरी को एक मटके में रखकर ठण्‍डा कर लें। मटका न होने की दशा में फ्रिज में भी ठण्‍डा कर सकते हैं। ठण्‍डा होने के बाद आप उसको अपनी सामर्थ्‍य के अनुसार भीगे हुए छिले बादाम या हल्‍के भुने हुए खरबूजे के बीज, जिसको मिगी भी बोला जाता है, से किनारों पर सजाकर और पोदीने की पत्‍तियां लगाकर परोस सकते हैैं।

इसमें नमक का उपयोग आपको करना हो तो कर सकते हैं। बिना नमक के यह भोजन से पहले परोसेे जाने वाले र्स्‍टाटर का काम करेगा और इससे आपके स्‍वादतंत्र खुल जाएंगे। इसके हर कौर में एक अलग स्‍वाद का अहसास होगा।

नोट- यदि दही में खटठापन है, तो दही को एक साफ कपड़े में डाल लिजिए और उसके बाद साफ पानी से कपड़े में रखे दही को धो लिजिए। इससे दही का खटठापन खत्‍म हो जाएगा।

LEAVE A REPLY