अब महानगर में भी उद्याेेेग के क्षेत्र में जागी उम्‍मीदें, मिलेगा रोजगार

- झाँसी बनेगा साफ्ट ट्वॉयज का हब - एक जनपद एक उत्पाद में 200 हस्तशिल्पी होंगे लाभान्वित

0
102

झाँसी। कृषि क्षेत्र में झाँसी भले ही दलहन हब न बन पाया हो लेकिन उद्योग के क्षेत्र में जरुर उम्मीदें जाग गई हैं। सरकार की एक जनपद एक उत्पाद योजना झाँसी को साफ्ट ट्वायज हब बनाने के लिए बेताब है। जिले में 200 हस्तशिल्पियों को तैयार करने का लक्ष्य मिला है, जो न केवल उत्पाद करेंगे बल्कि देशभर में इसकी बिक्री भी करेंगे।
उत्तर प्रदेश दिवस पर 24 जनवरी को प्रदेश सरकार एक जनपद एक उत्पाद योजना लांच करने जा रही है। प्रदेश सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और निर्यात प्रोत्साहन विभाग द्वारा इस योजना का संचालन किया जाएगा। इस अभियान में जिला स्तर पर स्थानीय कौशल का संरक्षण और विकास किया जाएगा और वहां की कला का विकास किया जाएगा। सरकार का मानना है कि इस योजना से जन सहभागिता बढ़ने के साथ ही उस क्षेत्र के पर्यटन में विकास होगा। सरकार इस योजना के तहत पहले चयनित उत्पाद की उत्पादकता, गुणवत्ता और प्रतिस्पर्धी सामर्थ्य के विकास पर अध्ययन करेगी। इसमें संसाधनों की उपलब्धता और गैप पर ध्यान दिया जाएगा। इसके बाद उत्पाद की मजबूती, कमजोरी, अवसर और चुनौतियों पर जो रिपोर्ट आएगी, उस पर विकास की रणनीति तैयार की जाएगी। योजना के तहत केंद्र और राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की डबटेलिंग, अंतरविभागीय समन्वय और नई योजनाएं बनाकर प्रदेश की जमीनी स्तर पर अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जाएगा। प्रत्येक जनपद के मशहूर उत्पाद की प्रदर्शनी भी लगेगी और उद्योग की दृष्टि से नई शुरुआत है। इसके साथ-साथ जिले की अपनी अलग पहचान बनेगी।
योजना के तहत झाँसी जनपद को साफ्ट ट्वायज के लिए चुना गया है। जिले में 200 हस्तशिल्पियों का लक्ष्य दिया गया है। वर्तमान में 50 हस्तशिल्पी साफ्ट ट्वॉयज बना रहे हैं और उन्हें प्रशिक्षण की जिम्मेदारी दी गई है। प्रशिक्षित महिलाओं को मुद्रा योजना सहित अन्य योजनाओं से रॉ मैटेरियल, मार्केटिंग आदि के लिए वित्तीय सहायता दी जाएगी जो न्यूनतम 50 हजार से दस लाख रुपये तक होगी। यही नहीं जो लोग इस कारोबार में जुड़े हैं उन्हें लखनऊ में होने वाले अवध शिल्पग्राम में एक साल के लिए स्टॉल भी मिलेंगे। वहां सिर्फ दुकानदार बदलते रहेंगे, जबकि उत्पाद स्थायी रहेगा।

ललितपुर की जरी साड़ी भी चयनित

एक जनपद एक उत्पाद योजना के तहत जहां झाँसी का साफ्ट ट्वॉयज चुना गया है वहीं ललितपुर की जरी साड़ी और जालौन के कालपी का हाथ से बना कागज चुना गया है। संबंधित जिलों के यह प्रमुख उत्पाद हैं जो देशभर में पहचान रखते हैं।

इनका कहना है कि
अगले चरण में जिले को दूसरा उत्पाद दिए जाने की संभावना है। फिलहाल पूरा फोकस झाँसी को साफ्ट ट्वॉयज हब बनाने पर है।
सुधीर कुमार श्रीवास्तव, उपायुक्त उद्योग, झाँसी

LEAVE A REPLY