एक का सिर नहीं एक का धड़ नहीं, फिर भी लोगों की जिंदगी से करते हैं खिलवाड़

0
299

झांसी। इस बार हम आपके लिए लाए हैं ऐसे दो ग्रहों के बारे में जानकारी, जोकि सबसे अधिक मानव के जीवन में दखल रखते हैं। यह बिगड़ जाएं, तो जीवन नर्क बना दें और अगर इनकी किसी पर कृपा हो जाए। ऐसे में उससे बड़ा कोई भाग्‍यशाली नहीं है। यह दो ग्रह हैं राहू और केतू।
इनके विषय में बता रहे हैं रेलवे कर्मचारी व ज्‍योतिष विज्ञान के जानकार मुम्‍बई निवासी वैभव डेकाटे।

वैभव जी के अनुसार ज्‍योतिष विज्ञान में राहू और केतू ग्रह के बारे में अमृत मंथन की घटना की जानकारी आमतौर पर हर इंसान को है, लेकिन यह मानव जीवन पर क्‍या फर्क डालते हैं और इनको शांत करने के क्‍या उपाय हो सकते हैं। इन पर लोग कम ध्‍यान देते हैं।

राहू ग्रह :-

किसी भी ग्रह के उपाय करने से पहले उस ग्रह की मूल प्रकृति पर जरूर ज्ञान लें। यदि समुद्र मंथन से थोड़ा हटकर शास्त्रों पर ध्यान दो तो शास्त्रो के अनुसार राहू एक स्त्री-नपुंसक ग्रह है। नपुंसक क्यों, तो अब आओ मंथन पर राहू के पास सिर्फ सिर है सोचने के लिए और कुछ नहीं। उसके पास नीचे का धड़ ही नहीं, सो उसे नपुंसक ग्रह की संज्ञा दी है। कुछ लोग बोलते है कि “राहू जिसे तारे उसे कौन मारे” पर ये बात हमेशा याद रखे कि “काठ की हांडी एक बार ही चढ़ती है। लॉटरी या KBC में करोड़पति आदमी एक ही बार बनता है। बार-बार नहीं, राहू दवाई हॉस्पिटल का प्रत्यक्ष कारक है। एक बात सदैव ध्यान रखें कि कुंडली में शनि यदि बली है तो राहू बुरे फल नहीं देता और शनि जितना पीड़ित होगा, राहू उतना ही तकलीफ देगा।

इसको खुश करने के उपाय :-

* अपने परिवार वालों या रिश्तेदार कभी बीमार पड़े तो किसी अन्य को भेजने के बजाय या पैसे देने के बजाय, आप स्वंय जाकर दवाई लाये और अपने हाथों से दवा की थैली रोगी को दे।
* कभी रेलगाड़ी से सफर करना हो तो अपने साथ एक बाम, Iodex या Vicks की बड़ी नई डिब्बी साथ ले जायें और सफर के अंत में जानबूझकर उसे ऊपर के बर्थ या सीट के नीचे छोड़ दे। मैं दावे के साथ बोल रहा हूँ, वो Dustbin में नही जायेगी या तो अटेंडेंट ले लेगा या खाली बोतल जमा करने वाले गरीब बच्चे ले जायेंगे और बीमारी में स्वयंं प्रयोग करेंगे, जैसे ही उनका दर्द दूर होंगा उनकी दुआ सीधे आपको लगेगी।
* चांदी के गिलास में शहद मिश्रित दूध 43 दिन पीने से राहू की उग्रता शांत होती है।
* किसी के बोलने से कोई सुधरता नही है। आप किसी भी जगह झाडूवाली बाई या सफाईवालों को देखो तो 95% वो लोग तम्बाखू खाते ही है, उसका कारण बताता हूँ, कई बार जो डस्ट उड़ती है वो नाक-मुँह में जाती है। पर तम्बाखू की तीव्र तीखी स्मेल से वो डस्ट के जंतु बाहर निकलती स्वास की वजह से नाक और मुँह के अंदर प्रवेश नहीं करते। अतः अपने पहचान वाले किसी जमादार को प्यार से एकाध बार 1-2 पुड़िया दे दिया करो। वैसे भी प्रतिदिन सफाई के समय आपको आसानी से मिल जायेंगे।
* पानी में नित्य चुटकी भर चंदन सुगंधित पाउडर डालकर नहायें। घर में चंदन सुगंधित अगरबत्ती/धूपबत्ती प्रयोग करें।

केतु ग्रह :-

केतु एक असहाय अंधा पुरुष है, जिसे कंधा या लाठी की जरूरत है क्योंकि वो दिशाहीन (Directionless) होता है। केतु में सोचने की क्षमता नहीं होती। सो वो दिल के कहने पर काम करता है और धोखे खाता है। एक बात सदैव ध्यान रखें कुंडली में यदि मंगल बली होगा तो केतु शुभ फल देगा और मंगल पीड़ित रहा तो केतु अशुभ फल देगा।

इसको खुश करने के उपाय :-

* वृद्धाश्रम में अपने जन्मदिन या किसी शुभ दिन अपनी आर्थिक स्थिति अनुसार चप्पल या लाठी वितरित करें। यदि आर्थिक स्थिति ठीक हो तो किसी अस्पताल या रेलवे स्टेशन में व्हीलचेयर दान करें। पर अपना नाम ना डाले कि फलाने की ओर सप्रेम भेंट, भेंट और दान में फर्क होता है।
* अपने भाई को समय-समय पर गॉगल-टोपी गिफ्ट करते रहे। संभव हो तो किसी संस्था की मदद से सरकारी स्कूल में पढ़ रहे गरीब बच्चो में अच्छे अंक लाने वाले 3-3 लड़के-लड़कियों को चश्मे की फ्रेम दान करें।
* “केतु-मंगल संबंध”, जिस तरह एक खिलाड़ी खेल के बाद वापिस आता है, तो उसके मटमैले कपड़े ही उसके खेल में मेहनत दिखाते है। उसी तरह एक योद्धा (मंगल) जब युद्ध समाप्ति के बाद लौटे तो उसके अंग के जख्मो से बहता रक्त उसकी शूरवीरता का द्योतक होता है, अतः केतु से पीड़ित लोगों को समय-समय पर रक्तदान करते रहना चाहिए।
* किसी नजदीकी अस्पताल में संपर्क करके अपनी मृत्यु के बाद नेत्र-दान में शामिल होने से केतु के शुभ फलों में वृध्दि होती है और कई बार आप गलत कदम उठाने से बच जाते हो।
* नेत्रहीन भिखारियों को कभी दुत्कारे नहीं..बल्कि उनको खाने की सामग्री दे। एक 5 रुपये का Parle-G बिस्कुट भी दे सकते है। पर पैसा कभी ना दें, क्योकि यदि वो उन पैसो की शराब पियेगा, तो आपके बुरे दिन चालू हो जायेंगे।

नोट –: ज्‍योतिष विज्ञान के जानकार वैभव डेकाटे और एशियाटाईम्‍स.इन की टीम इसको लेकर किसी प्रकार का दावा नहीं करती है, लेकिन इन उपायों को आजमाकर अगर आपके जीवन में कुछ भी अच्‍छा होता है, तो हमको खुशी होगी।

LEAVE A REPLY