वसूली को लेकर जिलाधिकारी ने दिखाए कड़े तेवर

0
54

झांसी। जनपद में कम वसूली करने वाले प्रबन्धक सहकारी ग्राम विकास बैंक लि0 व सचिव/मुख्य कार्यपालक अधिकारी जिला सहकारी बैंक का अग्रिम आदेशो तक वेतन रोके जाने के निर्देश दिए। लक्ष्य के सापेक्ष कम वसूली पर सख्त नाराजगी जताई गई। साथ ही शाखा प्रबन्धकों से पूछा गया कि वसूली बढाये जाने के लिए अब तक क्या प्रयास किये गये। आर.सी. जारी होने के बाद भी शाखाओं द्वारा लक्ष्य के  सापेक्ष अब तक वसूली नही हो सकी, यदि अमीनो द्वारा कार्य नही किया जा रहा है तो उन्हे चिन्हित किया जाए ताकि उन्हे हटाया जा सके। इसके अतिरिक्त 50 वर्ष से अधिक ऐसे कर्मचारी जो कार्य सम्पादन में असमर्थ है। उन्हे स्क्रीनिंग कमेटी में रखा जाए। समस्त निर्देश जिलाधिकारी श्री शिव सहाय अवस्थी ने गांधी सभागार में सहकारिता विभाग की समीक्षा करते हुए दिए। बैठक में सहकारी देयो की वसूली, सहकारी परिसम्पत्तियों पर अतिक्रमण सम्बन्धित जानकारी प्राप्त की और कहा कि यदि अतिक्रमण है तो बताये उसे मुक्त कराया जाएगा।

सहकारी बैंको की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने कड़े तेवर दिखाते हुए सख्त निर्देष दिये कि जो भी वसूली लक्ष्य शाखावार है उसे हर हाल में शत-प्रतिशत पूर्ण किया जाना है। उन्होने कहा कि संतोषजनक प्रगति न होने पर वेतन रोके जाने की कार्यवाही की गयी, यदि स्थिति में सुधार नही पाया जाता है तो सख्त कार्यवाही की जायेगी। आर.सी. जारी होने के बाद यदि अमीन सही ढंग से कार्य नही करते है तो उन्हे हटाये जाने की जाने की कार्यवाही की जाये। उन्होने अधिकारियों को भी शिथिल पर्यवेक्षण पर फटकार लगाते हुए कहा कि आप लगातार समीक्षा करे ताकि कार्य में सुधार आ सके। जिलाधिकारी ने उ.प्र. सहकारी ग्राम विकास बैंक लि. की शाखावार समीक्षा की। उन्होने जनपद झांसी में 538 बकायादारों में 214 आर.सी. बकायादारो से 5 करोड़ से अधिक वसूली के सापेक्ष मात्र 5 लाख वसूली पर कडी नाराजगी व्यक्त की। शाखा मोंठ में 160 आर.सी. बकायादारों से 2 करोड़ से अधिक वसूली पर मात्र 9 लाख की वसूली की गयी, जो संतोषजनक नही है। समीक्षा में गरौठा, मउरानीपुर की भी कम वसूली पर नारजगी जाहिर की गयी। जिला सहकारी बैंक लि. की सहकारी देयो की वसूली पर जिलाधिकारी ने कम वसूली पर शाखा बंगरा, गरौठा, मउरानीपुर, मोंठ, समथर, टहरौली को वसूली बढाये जाने के निर्देष दिए।  उन्होने कहा कि वर्तमान में गतवर्ष से वसूली कम है, इसमें सुधार लाया जाये।
बैठक मे जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में किसी भी दशा में उर्वरक की समस्या नही आना चाहिए। अभी से तैयारियां पूर्ण कर ले, यदि समस्या होगी तो बख्शा नही जायेगा। अतिक्रमण यदि किसी शाखा व सोसाइटी भूमि पर है तो उसे तत्काल मुकत कराया जायेगा। यदि निरीक्षण में पाया जाता है कि अतिक्रमण है और जानकारी नही दी गयी तो सम्बन्धित अधिकारी के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। इस मौके पर एडीएम नगेन्द्र शर्मा, सहायक आयुक्त/सहायक निबन्धक सहकारिता के.पी. शुक्ला, सचिव/मुख्य कार्यपालक जिला सहकारी बैंक नन्द किशोर, वरिष्‍ठ प्रबन्धक सहकारिता भूमि विकास बैंक सुरजीत सिंह, अपर जिला सहकारी अधिकारी सी.एल.प्रजापति, इफफो जसवीर सिंह आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY