पहली मिस्ड कॉल देकर परिवहन मंत्री ने राष्‍ट्र रक्षा महायज्ञ को लिए 8 संकल्प

- आयोजकों ने देश के हर नागरिक से मिस्ड कॉल देकर 8 संकल्प लेने का आह्वान किया। - पूर्वी दिल्ली के सांसद एवं राष्ट्रीय मंत्री महेश गिरी के नेतृत्व में ‘राष्ट्र रक्षा महायज्ञ‘ का आयोजन 18 मार्च से 25 मार्च 2018 तक किया जाएगा।

0
132

नई दिल्ली। राष्ट्र रक्षा महायज्ञ केवल एक धार्मिक कार्य नहीं है। यह तो देश के प्रत्येक नागरिक को उसके राष्ट्र के प्रति दायित्वों का पुनःस्मरण कराने का अनुष्‍ठान है। उक्‍त विचार केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा कायाकल्प मंत्री नितिन गडकरी ने आज प्रथम मिस्ड कॉल देकर राष्ट्र रक्षा महायज्ञ के 8 संकल्प लेने की शुरूआत करते हुए व्‍यक्‍त किए।
उन्होंने देश के हर नागरिक से इन 8 संकल्पों को ग्रहण करने और इनका अक्षरश: पालन करने का अनुरोध किया। श्री गडकरी ने विशेेेेष रूप से युवाओं को ‘संकल्प ब्रांड एम्बेसडर‘ बनने का अनुरोध करते हुये कहा कि वे 9907797979 का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें एवं लोगों को प्रेरित करें कि वे मिस्ड कॉल देकर ये संकल्प लें और राष्‍ट्र रक्षा महायज्ञ में एक आहुति दें।
कार्यक्रम में पूर्वी दिल्ली के सांसद एवं राष्ट्रीय मंत्री महेश गिरी ने कहा कि महिलाओं के सम्मान की रक्षा का संकल्प, पर्यावरण की रक्षा का संकल्प, स्वच्छता का संकल्प, वोट करने का संकल्प, भ्रष्‍टाचार से मुक्ति का संकल्प, संविधान की रक्षा का संकल्प, देश की सम्पत्ति की रक्षा का संकल्प तथा आतंकवाद, जातिवाद और सम्प्रदायवाद के विनाश का संकल्प जैसे ये 8 संकल्प देश के नागरिकों की सोच में क्रान्तिकारी बदलाव लाने की क्षमता रखते हैं। ये संकल्प न केवल देश की सुरक्षा को सुनिश्‍चित करेंगे, साथ ही इसे समृद्धि के पथ पर भी अग्रसर करेंगे। कार्यक्रम में देश के 8 कर्मठ एवं जागरूक नागरिक भी उपस्थित थे, जिन्होंने न केवल इन संकल्पों को ग्रहण किया है, बल्कि अपने अनथक प्रयासों से उन्हें जीवन्त करके समाज के समक्ष एक अनुकरणीय मिसाल भी पेश की है। 18 मार्च से 25 मार्च तक चलने वाले राष्‍ट्र रक्षा महायज्ञ में 1111 वैदिक विद्या में निष्‍णात ब्राह्मण माँ पराम्बा भगवती बगलामुखी 108 कुण्डीय राष्ट्र रक्षा महायज्ञ करेंगे। 15 एकड़ क्षेत्र में फैले ऐतिहासिक लाल किला मैदान में निर्माणाधीन ‘राष्ट्र रक्षा महायज्ञ नगरी‘ प्रसिद्ध भारतीय कला निर्देशक नितिन चन्द्रकांत देसाई (मुम्बई) की कल्पनाशीलता एवं पुरातन भारतीय वास्तु कला का अद्भुत संगम प्रस्तुत करेगी। महायज्ञ के दौरान देश भर से आध्यात्मिक गुरू इस पावन पहल में हिस्सा लेंगे और सवा दो करोड़ (2.25 करोड़) मंत्रों का मंत्रोच्चार करेंगे। इससे समूचे देश में भारतीयता एवं सांस्कृतिक अखण्डता की ऊर्जा का प्रसार होगा। 8 दिन के इस सांस्कृतिक महोत्सव के दौरान देश के जाने माने कलाकार प्रत्येक शाम को राष्ट्र की नृत्य, संगीत और लोक कलाओं की सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करते हुये मंच पर भावपूर्ण प्रस्तुतियां देंगे। राष्‍ट्र रक्षा महायज्ञ राष्ट्र के लिए समर्पण की भावना को उत्पन्न करने और एक भारतीय होने का गौरव जाग्रत करने का एक प्रयास है। इस कार्य को सदियों पुरानी यज्ञ परंपरा के माध्यम से साकार करने की कोशिश की जा रही है।

LEAVE A REPLY