शौक पूरे करने के लिए दूसरों को देते थे शॉक

0
63

झांसी। जीआरपी पुलिस ने एक अन्तर प्रान्तीय गिरोह को पकड़ लिया, जो अपने शौक को पूरा करने के लिए लूट जैसी गम्भीर घटनाओं को अंजाम देते थे। पुलिस ने इनके पास से भारी मात्रा में ज्वैलरी व नगदी बरामद की है। आरोपियों को पकड़ने पर उच्चाधिकारियों ने टीम को ईनाम दिए।
जीआरपी झांसी पुलिस अधीक्षक पीके मिश्र ने 21 नवम्बर को लूट के मामले में खुलासा करते हुए बताया कि 21 नवम्बर की रात में बरेली इन्दौर एक्सप्रेस में लूट हुई थी, जिसमें एक महिला का बैग व एक अन्य महिला का मोबाइल छीनकर बदमाश भाग गये थे। सूचना मिलते ही झांसी रेलवे पुलिस व एसओ ललितपुर सक्रिय हो गये। मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस सुनहर पुलिया के पास पहुंची, तो वहां 4 व्यक्ति खड़े थे। उन्होंने पुलिस को आता देख फायरिंग शुरु कर दी। घेराबन्दी कर पुलिस ने 3 व्यक्तियों को पकड़ लिया। एक भागने में सफल रहा।

तलाशी के दौरान पुलिस ने इनके पास से करीब पांच लाख की ज्वैलरी, बारह हजार आठ सौ रुपये नगदी के साथ एक तमंचा व कारतूस बरामद कर लिए है। एसएसपी ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में कहा कि वह अपने शौक को पूरा करने के लिए इस तरह की गम्भीर वारदात को अंजाम देते थे। किसी को शक न हो, इसलिए दिखाने के लिए अवैध वेन्डर के रूप में घूमते थे और मौका मिलते ही चोरी और छिनैती कर भाग जाते थे। पूछताछ में इन्होंने अपने नाम 19 वर्सीय राहुल कुशवाहा पुत्र कदम सिंह कुसवाहा, थाना हजीरा, ग्वालियर, 26 वर्सीय विनय जाटव उर्फ टीपू उर्फ लगड़ा पुत्र नारायण जाटव थाना बामौर जिला मुरैना और 18 वर्शीय प्रवीण तोमर पुत्र हनुमन्त तोमर नईबस्ती चन्दनपुर बिरला नगर ग्वालियर बताया। साथ ही ट्रेन में हुई कई वारदातों का खुलासा किया। आरोपियों ने बताया कि फरार आरोपी दिनेश गुप्ता उर्फ लाला उर्फ छोटा बनिया पुत्र हरिश्चन्द्र गुप्ता काफी समय से इस तरह की घटनाओं में सक्रिय है और जेल भी जा चुका है। जीआरपी की सफलता पर पुलिस महानिरीक्षक रेलवे प्रयागराज द्वारा 50 हजार की राशि से पुरस्कृत करने की घोषणा की गई है। अपराधियों को पकड़ने में टीम में निरीक्षक हरिशरण सिंह यादव, उप निरीक्षक संजय सिंह थानाध्यक्ष ललितपुर, वरिष्ठ उप निरीक्षक विनय कुमार साहू, कांस्टेबल उपेन्द्र सिंह, सुमित कुमार, अरूण राय, हेड कांस्टेबल जगदम्बा, श्याम सुन्दर, इमामुद्दीन, शिवकरन सिंह आदि सामिल रहे।

LEAVE A REPLY