बाइक चोर गिरोह पकड़ा, 9 चोरी की बाइक बरामद

0
97

झाँसी। इस साल के पहले सप्ताह में झाँसी पुलिस को लगातार सफलताएं हासिल हो रही हैं। चाहे सर्राफा व्यापारी कांड हो, या बाइक चोरी गिरोहों का पर्दाफाश है। सोमवार की रात नवाबाद और स्वॉट टीम ने बाइक चोरी गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से शहर से चुराई गई नौ बाइके बरामद की है। गिरफ्तार किए गए तीनों बदमाशों को अदालत में पेश किया गया। वहां से उनको जेल भेजा गया।
पुलिस उपमहानिरीक्षक जवाहर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे के शुक्ल, पुलिस अधीक्षक नगर देवेश कुमार पांडेय और सीओ सिटी जितेन्द्र सिंह परिहार के निर्देश पर नवाबाद और स्वॉट टीम वाहन चोरी गिरोह के सदस्यों की तलाश में लगी हुई थी। सोमवार की रात टीम को सूचना मिली कि तीन युवक चोरी की मोटर साइकिल लेकर किला क्षेत्र से होते हुए इलाइट की ओर आ रहे हैं। इस सूचना पर सक्रिय हुई टीमों ने राजकीय संग्रहालय गेट के सामने चेकिंग के दौरान तीनों युवकों को मय बाइक समेत रोक लिया। गाड़ी के कागजात मांगे तो वह कागजात नहीं दिखा सके। कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने चोरी की बाइक बताई है। इसके बाद तीनों को थाना लाया गया। पूछताछ की गई। पुलिस के मुताबिक मध्य प्रदेश के दतिया स्थित कोतवाली थाना क्षेत्र के लुटौरिया वाली गली में रहने वाला आयुष सैनी, दतिया के थाना धीरपुरा के ग्राम गौना निवासी कमल सूर्यवंशी व गोरखपुर के पथरा खेरा बाग के पास रहने वाले विशाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

यह हैं बरामद मोटर साइकिल

मोटर साइकिल होंडा साइन (यूपी78सीबी-2202), हीरो होंडा पैशन प्रो. (यूपी93वी-1400), मोटर साइकिल पैशन प्रो.(यूपी93एसी-366), हीरो होंडा पैशन प्रो. बिना नंबर, हीरो होंडा साइन रंग काला नंबर (यूपी93एडी-2019), पल्सर 150 सीसी रंग काला बिना नंबर, पल्सर 150 सीसी रंग काला नंबर (यूपी93एन-1541), हीरो होंडा साइन बिना नंबर, पल्सर 150 सीसी रंग काला नंबर (एमएच-4108) बरामद की है।

इन स्थानों से की थी चोरी

बरामद की गई मोटर साइकिल होंडी साइन को 12 दिन पहले आईसीआईसीआई बैंक के पास से, दस दिन पहले हीरो होंडा पैंशन को राघवेन्द्र अस्पताल मेडिकल कालेज के पास से, मोटर साइकिल पैशन को आठ दिन पहले सूरी आटो मोबाइल जीवनशाह के पास से चोरी की थी। इसके अलावा स्टेट बैंक, मेडिकल कालेज समेत अन्य स्थानों से चुराई गई थी। इन मोटर साइकिलों को वह झाड़ियों में छिपाकर रखते थे।

बेरोजगार होने पर बन गए बाइक चोर

अभियुक्तों का कहना है कि इलाइट चौराहा पर स्थित एक होटल पर काम करते थे। दो माह पहले तीनों को होटल से निकाल दिया था। इसके बाद मोटर साइकिल चोरी करने लगे थे। बिजौली के पास एक किराए का मकान में रहते थे। शहर से चुराई जाने वाली मोटर साइकिलों को दतिया में बेचा करते थे। चोरी की बाइक छह हजार से लेकर आठ हजार में बेचते थे। इसके बाद वह लोग अपना पेट भरते थे। दो माह के दौरान कई चोरी की वारदातें की है।

इस टीम को मिली सफलता

नवाबाद थाना प्रभारी निरीक्षक दीपक मिश्र, उपनिरीक्षक आर के सिंह, उपनिरीक्षक मुलायम सिंह, पदमचंद्र गोस्वामी, शैलेन्द्र सिंह चौहान, अंकित दीक्षित, स्वॉट टीम प्रभारी उमेश चंद्र त्रिपाठी, कांस्टेबल सर्वेश कुमार, नरेन्द्र सिंह, प्रदीप सिंह सेंगर, चंद्रशेखर, अपराध शाखा से सर्वेश कुमार टीम में शामिल रहे हैं।

LEAVE A REPLY