अपना ख्‍याल रखना, मौसम है बेईमान

हीट स्ट्रोक से बच कर रहें सतर्क

0
130

झांसी। मौसम प्रतिदिन नए नए रंग बदल रहा है। कभी तेज आंधी तो कभी तपिश की मार। तापमान की अधिकता के चलते जनजीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। मंगलवार को जहां पारा 46 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया था। आने वाले दिनों में यह तपिश अपने और कितने तेवर दिखाएगी कहना मुश्किल है। ऐसे में लू लगने की आशंका काफी बढ़ जाती है। लू लगना और हीट स्ट्रोक दोनों ही स्थितियां लगभग एक जैसी हैं।
चिकित्‍सकों के अनुसार सूर्य की तेज किरणों सीधे शरीर पर गिरने से लू लगने के साथ अन्य विकार भी पैदा हो सकते हैं। इनसे सुरक्षा के लिए शरीर को गर्मी से बचाने के साथ खानपान पर भी नियंत्रण रखना जरूरी है। धूप में निकलने से पूर्व अपने को पूरी तरह ढक कर निकलेंं।

प्‍यास अधिक लगने पर फलों का सेवन करें

गर्मियों में आने वाले फलों तरबूज, ककड़ी, खीरा और खरबूजे में पानी की मात्रा काफी अधिक होती है, इसलिए इनका सेवन जरूर करें। इन फलों को नियमित रूप से लेने पर शरीर में पानी के साथ खनिज-लवणों की भी पूर्ति होती है। वहीं गर्मी में सामान्य खाना जैसे दाल, चावल, सब्जी, रोटी आदि खाना ठीक रहता है। गर्मी में भूख से थो़ड़ा कम खाना चाहिए। इससे आपका हाजमा भी ठीक रहेगा और फुर्ती भी बनी रहेगी। तला हुआ खाना न खाएं।

ज्‍यादा ठण्‍डेे पानी से बचें

गर्मियों में शरीर का अधिकांश पानी पसीने के रूप में वाष्पीकृत हो जाता है। इसलिए दिन में अधिक से अधिक पानी पीएं। गर्मी में नारियल पानी, छाछ और लस्सी पीने से भी जल का संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है। वहीं ऐसे मेें अधिक ठण्‍डे पानी के सेवन से बचें, जिससे भी नुकसान होने की अधिक सम्‍भावना रहती है।

इन लक्षणों को देखते ही चिकित्‍सक से मिलें

0 तेज गर्मी का अहसास और बेचैनी।
0 नाड़ी की गति अधिक ब़ढ़ जाने के कारण शरीर का तापमान 101 से 104 डिग्री तक पहुंच जाना।
0 बार-बार प्यास लगना।
0 अधिक तापमान के कारण बेहोशी छाना।
0 चेहरा लाल, सिर दर्द, जी मचलाना और उल्टियां होना।

इन घरेलू उपचार से पा सकते हैं त्‍वरित राहत


0 रोगी के शरीर को ठंडा करें। बर्फ की पट्टियां रखें और यदि मरीज होश में है तो तापमान कम करने के लिए तुरंत नहलाएं।
0 कमरे में पंखे, कूलर या एसी जो भी हो उसे चालू करें।
0 नाड़ी और तापमान हर आधे घंटे में देखते रहें।
0 मरीज को डीहाइड्रेशन से बचाने के लिए ग्लूकोज और नमक या ओआरएस का घोल लगातार देते रहें।
0 लू से बचाव के लिए घर से खाली पेट न निकलें।
0 ताजा खाना खाएं। रखा हुआ खाना खाने से परहेज करें। तला हुआ खाना बिलकुल ही न खाएं।
0 आम और पोदीना का पना, छाछ, नींबू की शिकंजी और प्याज का अधिक से अधिक उपयोग करें।

LEAVE A REPLY