छात्रसंघ से राज्‍य महिला आयाेेेग की सदस्‍य तक का बड़ा उतार चढ़ाव भरा रहा सफर : डा. जायसवाल

0
250

झांसी। साधारण छात्रा का जीवन गुजारते हुए परिवार और दोस्‍तों के कहने पर बिपिन बिहारी महाविद्यालय से छात्रसंघ का चुनाव लड़ा और जीता भी। उसके बाद समाजसेवा के कार्यों में रुचि जागृत हुई। धीरे-धीरे जिन्‍दगी आगे बढ़ ही रही थी कि राष्‍ट्रवाद और देश की अच्‍छाई के लिए काम कर रही पार्टी भारतीय जनता पार्टी की तरफ आकर्षित हुईं। पार्टी कार्यकर्ता के रुप में ज्‍वाइन करने के बाद पूर्व मंत्री रविन्‍द्र शुक्‍ल द्वारा पार्टी में महिला मोर्चा की जिला उपाध्‍यक्ष पद पर वर्ष 2001 में एक पहचान दिलाई। उसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और परिवार व पार्टी के साथ समाजसेवा का कार्य करती रहींं। एक चिकित्‍सक, गृहणी व दो बेटियों की माता होने के बावजूद पार्टी की जिम्‍मेदारियों को पति और बच्‍चियों केे प्रोत्‍साहन व अपने साथियों के साथ पूर्ण रुप से निभाया। यह सफर काफी उतार चढ़ाव भरा रहा, लेकिन परेशानियों से कभी हार नहीं मानी, जिसकेे फलस्‍वरुप आज पार्टी ने मेरी सेवाओं के उपहार स्‍वरुप महिला राज्‍य आयोग की सदस्‍य बनाया है।
उक्‍त विचार भाजपा नेत्री डॉ. कंचन जायसवाल ने एशिया टाईम्‍स को अपना साझात्‍कार देते हुए व्‍यक्‍त किए। उन्‍होंने बताया कि भारतीय जनता पार्टी में पिछले 17 वर्षो से कार्य कर रही हूं। साथ ही साथ में एक महिला चिकित्सक हूं एवं पार्टी के विभिन्न संगठनात्मक पदों पर रहते हुए मैंने पार्टी के लिए पार्टी के विस्तार और विकास के लिए लगातार कार्य किया। मैंने महिलाओं को खासकर बुन्‍देलखण्‍ड जैसे पिछड़े क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में उन्हें किया और आगे बढ़ने में सहयोग किया। उनकी विभिन्न प्रकार की समस्याओं का समाधान करते हुए पार्टी के समर्पित सिपाही के रूप में अपने आप को स्थापित किया। भारतीय जनता पार्टी के महिला मोर्चा की झांसी जिले की उपाध्यक्ष के रूप में मैंने अब सन् 2001 मेेंं शुरुआत की। तदुपरांत झांसी के गुरसराय मंडल का मुझे प्रभारी बनाया गया। इसके बाद उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने मुझे कानपुर क्षेत्र का महिला मोर्चा का क्षेत्रीय अध्यक्ष बनाया जिसका कार्यकाल मैंने 3 वर्ष तक पूर्ण किया तथा उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष के रूप में मैंने 3 वर्ष तक पूरे प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा को सशक्त किया। चिकित्सक होने के नाते पार्टी ने मुझे चिकित्सा प्रकोष्ठ का प्रदेश सह संयोजक नियुक्त किया। पार्टी द्वारा मेरी निष्‍ठा को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी की मुख्‍य कार्यकारिणी में शामिल कर प्रदेश कार्यसमिति की सदस्य बनाया। अपना तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद मुझे बुन्‍देलखण्‍ड क्षेत्र के लिए क्षेत्रीय उपाध्यक्ष पद दिया गया। वहीं कानपुर और बुन्‍देलखण्‍ड क्षेत्र को एक साथ मिलाकर कानपुर बुन्‍देलखण्‍ड क्षेत्र का निर्माण होने के बाद पुनः क्षेत्रीय उपाध्यक्ष का पद प्रदान किया गया। इस पद पर मैंने 2 वर्ष तक कार्य किया। पार्टी के प्रति समर्पण और निष्‍ठा के फलस्‍वरुप मुझको दो अगस्त 2018 को भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के संगठन एवं प्रदेश की सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग के सदस्य राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्‍त पद के रूप में संवैधानिक पद पर नामित किया गया। उन्‍होंने बताया कि इस लम्‍बे समय अंतराल में मैंने कई उतार चढ़ाव देखे और अपनी पारिवारिक जिम्‍मेदारियों को भी पूर्णरुपेण निभाया।


पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष व उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद के साथ एक कार्यक्रम में

इससे पूर्व लंबे समय तक महिलाओं के क्षेत्र में रहकर मैंने कार्य किया। साथ ही मानवाधिकार विषय से पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री दिल्ली से हासिल की तथा बुन्‍देलखण्‍ड जैसे पिछड़े क्षेत्र में महिलाओं के ऊपर हिंसा उत्पीड़न इत्यादि विषयों को लेकर एक रिसर्च भी किया। उस रिसर्च का नाम एट्रोसिटी ऑफ वूमेन इन बुंदेलखंड रीजन रहा। इस रिसर्च को मैंने बुन्‍देलखण्‍ड विश्वविद्यालय के लॉ डिपार्टमेंट के डॉ. जीडी सिंह के निर्देशन में किया।

परिवार के साथ समय बिताते हुए

मेरे पति दिनेश कुमार जायसवाल रेलवे में टीटीआई के पद से सेवानिवृत्‍त हुए और दोनों बेटियां सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन चुकी हैं। एक बेटी अपना सुखी वैवाहिक जीवन बिता रही है। उन्‍होंने बताया कि इस पद पर रहते हुए मैं महिलाओं की समस्‍याओं को दूर करने के प्रयास के साथ ही पार्टी के प्रति पूर्ण निष्‍ठा के साथ आगे भी कार्य करती रहूंगी।

अपने समाचार देने, व्‍यापार का प्रमोशन कराने, एशिया टाईम्‍स से जुड़ने के लिए सम्‍पर्क करें:-

ईमेल आईडी :- mishra.sumitk@gmail.com और व्‍हाट्स अप नम्‍बर 9415996901

LEAVE A REPLY