भविष्य में आपके कपड़े ही बता देंगे शरीर का तापमान

000 00 0 0 0 बी.यू. के भौतिक विज्ञान विभाग में हुआ एक दिवसीय विशेष व्याख्यान

0
82

झांसी। वर्तमान सदी में जहां सारा ब्रहमाण्ड इलेक्ट्रॉनिक्स द्वारा नियंत्रित हो रहा है तो भविष्य में फोटोनिक्स का बोलबाला होगा तथा आने वाली सदी फोटोनिक्स की होगी। यह विचार कनाडा की वेस्टर्न ओंटारियो विश्वविद्यालय में भौतिकी तथा खगोल विज्ञान विभाग के प्रो. माही आर सिंह ने बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय परिसर में संचालित भौतिकी विभाग द्वारा विज्ञान भवन के सभागार में ‘एप्लीकेशन ऑफ नैनो साइंस टू टेक्नोलॉजी एण्ड मेडिसिन’ विषय पर आयोजित विशेष व्याख्यान में व्यक्त किए।
उन्होंने कहा कि तकनीकी विकास के कारण समय के साथ-साथ फोटोनिक्स तथा नैनो तकनीकी प्रभाव बढ़ता जाएगा। प्रो. सिंह ने कहा कि नैनो तकनीकी में प्रयुक्त किया जाने वाला ग्राफीन कार्बन की एक द्विआयामी परत होती है। उन्होंने फोटोनिक क्रिस्टल तथा मेटा मटीरियल के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा बताया कि नैनो पार्टिकल का उपयोग वर्तमान में किस प्रकार चिकित्सा हेतु किया जा रहा है। प्रो. सिंह ने जानकारी दी कि नैनो पार्टिकल की सहायता से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी का उपचार किया जा सके इस दिशा में प्रयेग जारी है। नैनो तकनीकी की मदद से निष्क्रिय मस्तिष्क को पुनः सक्रिय किया जा सकेगा है। प्रो.सिंह ने कहा कि भविष्य के लिए मानव के वस्त्रों को नैनो पार्टिकल की सहायता से तैयार किया जा सकेगा, जिससे वे मानव के शरीर के तापमान आदि के बारे में जानकारी दे सकें। प्रो.सिंह ने जर्मनी में ग्राफीन के आविष्कारक तथा नोबेल पुरस्कार विजेता प्रो. पी. आर. वॉलेस के साथ अपने शोध अनुभवों को उपस्थित श्रोताओं के साथ साझा किया। उन्होंने कहा कि भारतीयों छात्रों में प्रतिभा की कमी नही है, परन्तु उन्हें सही दिशा में प्रयास करने की आवश्यकता है। प्रो. सिंह ने कहा कि बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को उनके द्वारा जो भी संभव हो वह मदद करने को तैयार हैं। उल्लेखनीय है कि प्रो. माही आर. सिंह बुन्देलखण्ड के हमीरपुर जिले के मौद्दहा तहसील के एक छोटे से गांव के रहने वाले मूल निवासी है। कार्यक्रम के प्रारम्भ में संकायाध्यक्ष विज्ञान प्रो.एम.एम.सिंह ने अतिथियों को स्वागत किया। आमंत्रित अतिथियों को पुष्पगुच्छ भेंटकर सम्मानित भी किया गया। संचालन डॉ. कुसुम सिंह ने किया जबकि आमंत्रित अतिथियों का आभार डॉ. बीएस भदौरिया ने व्यक्त किया।
इस अवसर पर डॉ. डीके भट्ट, डॉ. महेश दत्त, डॉ. एस.के.श्रीवास्तव, डॉ.पूनम मेहरोत्रा, डॉ. कौशलेन्द्र चतुर्वेदी, डॉ. प्रकाश चन्द्रा, डॉ. आदित्य नारायण सिंह, डॉ. भानुमति सिंह, डॉ. आरडी कुदेशिया, डॉ. सपना रानी, डॉ. गौरी खानवलकर, डॉ. जोंस मैथ्यूस, डॉ. सर्वेन्द्र सिंह आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY